संयुक्त राष्ट्र के अभिकरण – स्थापना – प्रधान कार्यालय – सदस्य – संयुक्त राष्ट्र संघ नोट्स

Table Of Contents hide

संयुक्त राष्ट्र के अभिकरण

संयुक्त राष्ट्र संघ नोट्स

अन्तर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (I.T.U.)

• इस संघ की स्थापना 1865 ई. में की गई।

• तार, टेलीफोन और रेडियो की सेवाओं के उत्तरोत्तर प्रसार एवं विकास तथा सर्वसाधारण को कम से कम दर पर इसकी सेवा सुलभ कराने के लिए अन्तर्राष्ट्रीय नियम बनाना इसके मुख्य उद्देश्य है।

प्रधान कार्यालय – जेनेवा (स्विट्जरलैंड)

• सदस्य : 193  

विश्व डाक संघ (U.P.U.)

• इसकी स्थापना 9 अक्टूबर, 1874 को हुई।

• इसके मुख्य उद्देश्य हैं- संघ में सम्मिलित देशों में डाक संबंधी सुविधाओं का विकास करना।

• एक देश की डाक दूसरे देश में भेजने की दर, नियमादि निश्चित करना आदि।

प्रधान कार्यालय – वेल्ट पोस्ट्रासे आर 3000, बर्न 15 (स्विट्जरलैंड)

• सदस्य : 192

अन्तर्राष्ट्रीय श्रम संगठन (I.L.O.)

• इसकी स्थापना 11 अप्रैल, 1919 को वर्साय की सन्धि के आधार पर हुई।

1946 ई. में यह संयुक्त राष्ट्र संघ का एक विशिष्ट अभिकरण बन गया।

• मजदूरों की अवस्था और रहन-सहन के स्तर में सुधार करना तथा आर्थिक एवं सामाजिक सुरक्षा को बढ़ाना इसका उद्देश्य है।

• इसमें तीन पक्षों-सरकार, नियोजक तथा कामगारों के प्रतिनिधि भाग लेते हैं।

वर्ष 1969 में इस संगठन को शान्ति का नोबेल पुरस्कार प्राप्त हुआ था।

प्रधान कार्यालय – अंतर्राष्ट्रीय श्रम कार्यालय, सी०एच० 1211, जेनेवा, स्विट्जरलैंड

विश्व पर्यटन संगठन (W.T.O.) 

• इसकी स्थापना 1925 ई. में हुई थी।

• इसका उद्देश्य पर्यटन के माध्यम से आर्थिक वृद्धि एवं रोजगार के अवसर पैदा करना, पर्यावरण संरक्षण तथा पर्यटन के विरासत स्थलों को प्रोत्साहित करना था।

प्रधान कार्यालय-मैड्रिड (स्पेन)

अन्तर्राष्ट्रीय नागरिक उड्डयन संगठन (L.C.A.O.) 

• इसकी स्थापना 7 दिसम्बर, 1944 ई. को हुई।

• इसका उद्देश्य अन्तर्राष्ट्रीय वायु परिवहन से सम्बद्ध समस्याओं का समाधान करना है।

• यह अन्तर्राष्ट्रीय उड्डयन विधियों एवं समझौतों का प्रारूप तैयार करता है।

प्रधान कार्यालय-1000 शेरब्रोक गली, पश्चिम स्यूट 400, मॉन्ट्रियल, क्यूबेक, कनाडा एच०-3-ए०-2-आर० ।

• सदस्य : 191

खाद्य और कृषि संगठन (F.A.O.)

• इसकी स्थापना 16 अक्टूबर, 1945 को की गई।

• इसका उद्देश्य अन्तर्राष्ट्रीय कृषि में प्रगति के लिए फसलों के नए-नए किस्म के बीज तैयार करने हेतु वैज्ञानिक अनुसंधान करना, वैज्ञानिक ढंग से कृषि विस्तार करना, कृषि के उत्पादन और वितरण में सुधार करना आदि है।

प्रधान कार्यालय – वियाले दले तर्फे द फेरकले, रोम (इटली)

• सदस्य : 194

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (I.M.F.)

• IMF की स्थापना 27 दिसंबर, 1945 को वाशिंगटन (अमेरिका) में हुई लेकिन वास्तविक रूप में 1 मार्च, 1947 से इसने अपना कार्य प्रारंभ किया।

• अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रमुख उद्देश्य निम्नलिखित हैं

(i) अंतर्राष्ट्रीय मौद्रिक सहयोग की स्थापना करना,

(ii) अंतर्राष्ट्रीय व्यापार का संतुलित विकास करना,

(iii) विनिमय दरों में स्थायित्व लाना,

(iv) बहुपक्षीय भुगतानों की व्यवस्था करना और प्रतिकूल भुगतान संतुलन को ठीक करना तथा साथ ही साथ असंतुलन की मात्रा एवं अवधि में कमी करना।

• IMF का मुख्यालय वाशिंगटन डी. सी. (अमेरिका) में है तथा इसके कार्यालय पेरिस एवं जेनेवा में है।

• वर्तमान समय में इसकी सदस्य संख्या 188 है।

अन्तर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण एवं विकास बैंक विश्व बैंक (World Bank) 

● विश्व के धनी एवं निर्धन देशों का प्रथम सम्मेलन ‘ब्रेटनवुड्स कॉफ्रेंस’ के परिणामस्वरूप सन् 1945 में विश्व बैंक की स्थापना की गई। विश्व बैंक ने अपना कार्य जून 1946 में प्रारंभ किया।

• इस बैंक का उद्देश्य निर्धन, साधनहीन तथा विकासशील देशों को वित्त एवं तकनीकी सहायता उपलब्ध कराना है, जिनसे उनका आर्थिक विकास हो सके।

• विश्व बैंक के सदस्य देशों की संख्या 188 है तथा इसका प्रधान कार्यालय वाशिंगटन डी. सी. (अमेरिका) में है।

शिक्षा, विज्ञान और संस्कृति सम्बन्धी संगठन (U.N.E.S.C.O.)

• यूनेस्को की स्थापना 4 नवम्बर, 1946 को की गई।

• इसका उद्देश्य राष्ट्रों के बीच शिक्षा, विज्ञान और संस्कृति के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाना है, जिससे शान्ति और सुरक्षा की शक्तियों को बल मिले।

• संयुक्त राष्ट्र संघ के चार्टर में घोषणा की गई है कि संसार के सब लोगों को जाति, लिंग, भाषा या धर्म के भेदभाव के बिना मानवीय अधिकार एवं मौलिक स्वतंत्रताएँ प्राप्त होंगी।

मुख्य कार्यालय पेरिस (फ्रांस)

• सदस्य : 195 तथा 9 सहायक सदस्य

अन्तर्राष्ट्रीय समुद्री संगठन (I.M.O.)

• इसकी स्थापना 17 मार्च, 1948 में हुई।

• इसका उद्देश्य विभिन्न सरकारों द्वारा जलपोतों को लाने-ले-जाने के सम्बन्ध में निर्धारित नियमों पर विचार, जलपोत सम्बन्धी प्राविधिक समस्याओं के समाधान तथा अनुचित प्रतिबन्धों को हटाकर विभिन्न सरकारों के बीच परस्पर सहयोग बढ़ाना है।

• इसे 1982 तक अंतर्राष्ट्रीय समुद्री परामर्श संगठन (IMCO) कहते थे।

प्रधान कार्यालय – 4 अलबर्ट एम्बैंकमेन्ट, एस० ई० आई०, 7 एस० आर०, लंदन (ब्रिटेन)

• सदस्य : 171

विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.)

• इसकी स्थापना 7 अप्रैल, 1948 को हुई।

• इसका मुख्य उद्देश्य है, संसार की सभी जातियों के लोगों के स्वास्थ्य का स्तर उच्चतम बनाना।

• इसकी सेवाओं में अनेक रोग तथा शिशु स्वास्थ्य, पुष्टिकर आहार एवं वातावरण की शुद्धता आदि के सम्बन्ध में जानकारी देने के लिये प्रचार कार्य तथा प्रशिक्षण की व्यवस्था बहुत महत्त्वपूर्ण है।

प्रधान कार्यालय-1211, जेनेवा (स्विट्जरलैंड)

प्रादेशिक कार्यालय : अलक्जेंड्रिया, ब्राजविल, कोपनहेगन, मनीला, नई दिल्ली एवं वाशिंगटन।

● सदस्य : 194

विश्व मौसम विज्ञान संघ (W.M.O.)

• इसकी स्थापना 19 मार्च, 1951 को हुई।

• इसका उद्देश्य मौसम विज्ञान सम्बन्धी कार्यों एवं निरीक्षण को बढ़ावा देने के लिये पृथ्वी पर स्थान-स्थान पर स्टेशन और केन्द्र स्थापित करना तथा उनके स्तर को ऊँचा उठाना है।

• यह संघ संसार के विभिन्न देशों को ऋतु विज्ञान सम्बन्धी सभी आवश्यक सूचनाएँ देता है।

प्रधान कार्यालय – काजे पोस्ताले, 5 सी० एच. 1211, जेनेवा (स्विट्जरलैंड)

सदस्य : 191

अन्तर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा अभिकरण (I.A.E.A.)

• इसकी स्थापना 29 जुलाई, 1957 को हुई। • इसका उद्देश्य है, संसार में परमाणु शक्ति का प्रयोग शान्ति, सुरक्षा एवं निर्माण की दिशा में हो।

• यह संस्था आणविक शक्ति के विकास और उसका रचनात्मक कार्यों में प्रयोग करने के लिए परामर्श एवं प्राविधिक सहायता देती है।

• प्रधान कार्यालय विएना अंतर्राष्ट्रीय केंद्र, पी० ओ० बॉक्स 100, ए०-1400, विएना (ऑस्ट्रिया)।

• सदस्य : 164

संयुक्त राष्ट्र औद्योगिक विकास संगठन (U.N.I.D.O)

• इसकी स्थापना नवम्बर 1966 में की गई तथा वर्ष 1985 में इसे संयुक्त राष्ट्र संघ के विशिष्ट अभिकरण के रूप में शामिल किया गया।

• इस संगठन का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र संघ के आर्थिक एवं औद्योगिक विकास से संबंधित कार्यक्रमों में समन्वय स्थापित करना है।

• यह अर्द्धविकसित एवं विकासशील देशों को औद्योगिक विकास से संबंधित परामर्श देता है एवं उनमें औद्योगिक विकास के लिए परस्पर सहयोग को प्रोत्साहित करता है।

• इसका मुख्यालय वियना (ऑस्ट्रिया) में है

• सदस्य : 170

विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (W.I.P.O.)

• WIPO की स्थापना 1967 ई. में की गई तथा इसका मुख्यालय जेनेवा (स्विट्जरलैंड) में है।

• इसका प्रमुख उद्देश्य बौद्धिक संपदाओं का आकलन एवं उनसे संबंधित समझौतों को संपन्न कराना है।

● सदस्य : 188

अंतर्राष्ट्रीय कृषि विकास कोष (I.F.A.D.)

• इसकी स्थापना 13 जून, 1976 ई. को हुई थी।

• इसका उद्देश्य विकासशील देशों में निम्न वर्गों को उन्नत खाद्य उत्पादन तथा पोषाहार के साधन जुटाने में मदद करना था।

• इसका मुख्यालय रोम (इटली) में है।

सदस्य : 176

विश्व व्यापार संगठन (W.T.O)

• गैट वार्ताओं का दौर समाप्त होने के बाद ‘गैट’ के स्थान पर 1 जनवरी, 1995 ई. में

● विश्व व्यापार संगठन की स्थापना की गई।

• यह विश्व व्यापार पर नजर रखने वाली प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय संस्था है।

• इसका मुख्यालय जेनेवा (स्विट्जरलैंड) में है।

• सदस्य : 161

अन्तर्राष्ट्रीय बाल संकट कोष (U.N.I.C.E.E.)

• इसकी स्थापना 11 दिसम्बर, 1946 को हुई।

• यह संस्था आर्थिक और सामाजिक परिषद् के पर्यवेक्षण में कार्य करती है।

• यह संस्था, सम्पूर्ण विश्व विशेषकर अविकसित देशों के बालकों के कल्याण के लिए कार्य करती है।

• इसके द्वारा कठिन बीमारियों का निवारण, प्रसूतिका गृहों और शिशु कल्याण केन्द्रों की स्थापना, शिशु आहार की व्यवस्था, दुग्ध वितरण आदि कार्य किये जाते हैं।

• प्रधान कार्यालय – न्यूयॉर्क (USA)

● सदस्य : 36

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (U.N.D.P)

यह संयुक्त राष्ट्र के अभिकरणों में सर्वाधिक बृहत् एवं बहुपक्षीय विकास कार्यक्रमों से युक्त है।

• इसका उद्देश्य आर्थिक विकास एवं औद्योगिक विस्तार के कार्यक्रमों के लिए वित्तीय एवं तकनीकी सहायता देना है।

• इसका स्थापना वर्ष 1965 है।

• मुख्यालय – न्यूयॉर्क (USA)

सदस्य : 177

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायुक्त (U.N.H.C.R.)

• इसकी स्थापना महासभा द्वारा 1,जनवरी, 1950 को की गई।

• इसका मुख्य कार्य शरणार्थियों की रक्षा, स्वदेश-वापसी, पुनर्वास तथा रोजगार को पुनः प्रारम्भ करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आर्थिक एवं अन्य सहायता प्रदान करना है।

• यह संस्था विश्व के अनेक देशों में शरणार्थियों की समस्या सुलझाने का प्रयत्न कर रही है।

सन् 1981 में इस संस्था को नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

• प्रधान कार्यालय – जेनेवा (स्विट्जरलैंड)

सदस्य : 98

संयुक्त राष्ट्र के अभिकरण

संयुक्त राष्ट्र के अभिकरण

इन्हें भी पढ़ें

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!