हड़प्पा सभ्यता की खोज किसने की – Hadappa sabhyata kee khoj kisane kee

हड़प्पा सभ्यता की खोज किसने की 

हड़प्पा सभ्यता की खोज दयाराम साहनी ने की

1921 में दयाराम साहनी ने हड़प्पा का उत्खनन किया। इस प्रकार इस सभ्यता का नाम हड़प्पा सभ्यता रखा गया व राखलदास बेनर्जी को मोहनजोदड़ो का खोजकर्ता माना गया।

यह सभ्यता सिन्धु नदी घाटी में फैली हुई थी इसलिए इसका नाम सिन्धु घाटी सभ्यता रखा गया। प्रथम बार नगरों के उदय के कारण इसे प्रथम नगरीकरण भी कहा जाता है। प्रथम बार कांस्य के प्रयोग के कारण इसे कांस्य सभ्यता भी कहा जाता है। सिन्धु घाटी सभ्यता के 1400 केन्द्रों को खोजा जा सका है जिसमें से 925 केन्द्र भारत में है। 80 प्रतिशत स्थल सरस्वती नदी और उसकी सहायक नदियों के आस-पास है। अभी तक कुल खोजों में से 3 प्रतिशत स्थलों का ही उत्खनन हो पाया है । नए शोध में सिन्धु घाटी सभ्यता से भगवान शिव और नाग के प्रमाण मिले है उस आधार पर कहा गया 

इन्हे भी पढ़े 

मध्यकालीन भारत का राजनीतिक इतिहास

पुनर्जागरण

1826 ईसवी में सर्वप्रथम हड़प्पा टीले का उल्लेख चालर्स मेशन ने किया

1826 ई. में जॉन ब्रटन एवं विलियम ब्रटन ने कराची से लाहौर तक रेल लाइन बिछाने के दौरान हुई खुदाई में पुरातात्विक अवशेष प्राप्त किए

1873 ई.में कनिंघम को भी पूरा वस्तुएं प्राप्त हुई

1912 ई. में जे. एफ. फ्लीट ने यहां से प्राप्त वस्तु के आधार पर लेख लिखा

1921 ई. में दयाराम साहनी ने पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में रावी नदी के तट पर स्थित हड़प्पा नामक स्थल पर पुरातात्विक उत्खनन पर हड़प्पाई मोहरे प्राप्त की।

1922 में राखलदास बनर्जी ने मोहनजोदड़ो की खोज की।

पिगट ने हड़प्पा एवं मोहनजोदड़ो को सिंधु घाटी सभ्यता की जुड़वा राजधानियां बताया।

1924 में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के समस्त विश्व की समस्त सिंधु घाटी सभ्यता की खोज की घोषणा की।

हड़प्पा सभ्यता की खोज किसने की

इन्हे भी पढ़े 

सिन्धु घाटी सभ्यता

भारत का इतिहास

मध्यकालीन भारत का राजनीतिक इतिहास

पुनर्जागरण

Leave a Comment

error: Content is protected !!
Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.