HISTORY GK Question Answer

 

1. ईस्ट इण्डिया कम्पनी के भारत आने के समय भारत में किस बादशाह का शासन था?- जहांगीर HISTORY GK

Which king was ruled in India when the East India Company came to India? – Jahangir

2. ईस्ट इण्डिया कम्पनी को भारत में व्यापार  करने की अनुमति किस सन् में मिली?- 1615

East India Company trading in India In which year was allowed to do? – 1615

3.ईस्ट इण्डिया कम्पनी का भारत में पहला व्यापार केन्द्र किस स्थान पर बना?- सूरत HISTORY GK

At which place did the East India Company’s first business center become in India? – Surat

4.प्लासी का युद्ध किनके मध्य हुआ था?- ईस्ट इण्डिया कम्पनी और बंगाल के नवाब

4. Between whom did the Battle of Plassey take place? – East India Company and the Nawabs of Bengal

5. ब्रिटिश भारत की राजधानी कलकत्ता से दिल्ली किस सन में स्थानन्तरित की गई थी?- 1911

From which city was Delhi transferred from the capital of British India to Delhi? – 1911

6.भारत के प्रथम गवर्नर जनरल का नाम क्या है?- विलियम बेंटिक

What is the name of the first Governor General of India? – William Bentick

7. ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने टीपू सुल्तान पर किस सन् में विजय प्राप्त की?- 1792 HISTORY GK

7. In which year did the East India Company conquer Tipu Sultan? – 1792

8. झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई का अग्रेजों के साथ युद्ध किस सन् में हुआ था?- 1858

. In which year did Rani Lakshmibai of Jhansi fought with the British? – 1858

9. कांग्रेस में गरम दल के संस्थापक कौन थे?- बाल गंगाधर तिलक

9. Who was the founder of Garam Dal in Congress? – Bal Gangadhar Tilak

10.अंग्रेजों की गुलामी से मुक्ति पाने के लिए “आजाद हिन्द फौज” की स्थापना किन्होंने किया था?– चन्द्रशेखर आजाद

10. Who founded the “Azad Hind Fauj” to get rid of the slavery of the British? – Chandrashekhar Azad

11. भारत का प्रथम मुगल शासक कौन था?- बाबर HISTORY GK

11. Who was the first Mughal ruler of India? – Babur

12भारत में मुगल साम्राज्य कि सन् में स्थापित हुआ?- 1526(पानीपत के युद्ध में बाबर ने इब्राहिम लोदी पर विजय प्राप्त की और मुगल साम्राज्य स्थापित हुआ।)

12 India was founded in the Mughal Empire? – 1526 (Babur conquered Ibrahim Lodi in the Battle of Panipat and established the Mughal Empire.)

13. हुमायु ने शेरशाह सूरी पर किस सन् में विजय प्राप्त की?- 1540

13. In which year Humayu conquered Sher Shah Suri? – 1540
14. पानीपत का द्वितीय युद्ध किनके बीच हुआ?- अकबर और हेमू

14. Second battle of Panipat took place between – – Akbar and Hemu
15. अकबर और महाराणा प्रताप के मध्य हुए युद्ध को किस नाम से जाना जाता है?- हल्दी घाटी का युद्ध

15. By what name is the war between Akbar and Maharana Pratap known? – Battle of Haldi valley

16. किस बादशाह ने न्याय के लिए जंजीर लगवाया? HISTORY GK
– जहांगीर

16. Which emperor chained for justice?
– Jahangir
17. शाहजहां की बेगम मुमताजमहल, जिसके लिए शाहजहां ने ताजमहल बनवाया, की मृत्यु कहाँ पर हुई थी?- बुरहानपुर

17. Where did Shah Jahan’s Begum Mumtazmahal, for whom Shah Jahan built Taj Mahal, died? – Burhanpur
18. औरंगजेब का मकबरा कहाँ पर है?- औरंगाबाद

18. Where is Aurangzeb’s tomb? – Aurangabad

19. बाबर की पुत्री का क्या नाम था?- गुलबदन बेगम

19. What was the name of Babur’s daughter? – Gulbadan Begum

20. “फतेहपुर सीकरी” शहर किस बादशाह ने बनवाया?- अकबर

Which king built the city “Fatehpur Sikri”? – Akbar

हल्दीघाटी युद्ध के शुरू होने से पूर्व अकबर की शाही सेना ने जिस स्थान पर डेरा डाला था, उसे क्या कहा जाता है?
Ans. शाही बाग

What is the place where Akbar’s royal army camped before the start of Haldighati war?
Ans. Shahi Bag

राणा प्रताप के घोड़े की समाधि कहाँ स्थित है? HISTORY GK
Ans. हल्दीघाटी में

Where is the tomb of Rana Pratap’s horse located?
Ans. In Haldighati

अकबर ने चित्तौड़ पर कब आक्रमण कर कब्जा किया?
Ans. 1567 ई. में

When did Akbar invade and occupy Chittor?
Ans. In 1567 AD

अकबर के चित्तौड़ पर आक्रमण के समय किसके नेतृत्व में हजारों राजपूतों ने मुगल सेना का मुकाबला किया?
Ans. वीर जयमल और पत्ता ने

At the time of Akbar’s invasion of Chittor, under whose leadership did thousands of Rajputs confront the Mughal army?
Ans. Veer Jaimal and Patta

हल्दीघाटी युद्ध में शहीद हुए राणा प्रताप के सेनापति पठान हकीम खाँ सूरी की समाधि (मजार) कहाँ स्थित है?

Ans. खमनोर गाँव के रक्त तलाई के मैदान में

Where is the mausoleum (tomb) of Pathan Hakim Khan Suri, the commander of Rana Pratap, who was martyred in the Haldighati war?
Ans. In the blood fried ground of Khamnore village

हल्दीघाटी के पास स्थित खमनोर गाँव के रक्त तलाई के मैदान में ग्वालियर के किस राजकुमार ने अपने प्राण उत्सर्ग किए जिसकी समाधि (छतरी) भी वहाँ स्थित है? HISTORY GK
Ans. राम सिंह तंवर

Which prince of Gwalior emitted his life in the bloodstream of Khamanor village near Haldighati, whose tomb is also located there?
Ans. Ram Singh Tanwar

हल्दीघाटी युद्ध में प्रताप के घोड़े चेतक घायल हो जाने पर परिस्थिति को समझते हुए किस वीर राजपूत ने राजचिन्ह और ध्वज अपने हाथ में ले लिया और प्रताप के स्थान पर स्वयं लड़ कर प्रताप को युद्ध मैदान से बाहर निकाला था?
Ans. राजराणा वीदा (झाला मान)

Realizing the situation when Pratap’s horse Chetak was injured in the Haldighati war, which heroic Rajput took the royal emblem and flag in his hand and had Pratap taken out of the battle field by fighting himself instead of Pratap?
Ans. Rajrana Vida (Jhala Maan)

महाराणा प्रताप का राजतिलक कब व कहाँ हुआ?

Ans. 1572 ई. में गोगुंदा में

When and where was Maharana Pratap’s coronation?
Ans. At Gogunda in 1572 AD

राणा प्रताप और अकबर की सेना के मध्य हल्दीघाटी का प्रसिद्ध युद्ध किस दिन प्रारंभ हुआ? HISTORY GK

Ans. 18 जून 1576 को

On which day did the famous battle of Haldighati between Rana Pratap and Akbar’s army begin?

Ans. On 18 June 1576

हल्दीघाटी के युद्ध में किस मैदान में राणा प्रताप मुगल सेना से घिर गए थे?

Ans. खमनोर गाँव के रक्त तलाई के मैदान 

In which battle did Rana Pratap surround the Mughal army in the battle of Haldighati?
Ans. Blood Frying Grounds of Khamnore Village

712– सिंध की लड़ाई में मोहम्मद कासिम ने अरबों की सत्ता स्थापित की |

712– Mohammad Qasim established the power of the Arabs in the Battle of Sindh.
1191 – तराईन का प्रथम युद्ध – मोहम्मद गौरी और पृथ्वी राज चौहान के बीच हुआ था | चौहान की विजय हुई |

1191 – First Battle of Tarain – was fought between Mohammad Gauri and Prithvi Raj Chauhan. Chauhan was victorious.

1192 -तराईन का द्वितीय युद्ध – मोहम्मद गौरी और पृथ्वी राज चौहान के बीच| इसमें मोहम्मद गौरी कीविजय हुई |

1192 – Second Battle of Tarain – Between Mohammad Gauri and Prithvi Raj Chauhan. Mohammad Gauri’s victory was done in this.

1197 -चंदावर का युद्ध – इसमें मुहम्मद गौरी ने कन्नौज के राजा जयचंद को हराया |HISTORY GK

1197 – Battle of Chandavar – In this Muhammad Ghori defeated King Jaichand of Kannauj.

1524 -पानीपत का प्रथम युद्ध -मुग़ल शासक बाबर और इब्राहीम लोधी के बीच |

1524 – First Battle of Panipat – Between Mughal ruler Babur and Ibrahim Lodhi

1524 -पानीपत का प्रथम युद्ध -मुग़ल शासक बाबर और इब्राहीम लोधी के बीच ||

1527 – Battle of Khanwa – Babur defeated Rana Sanga.

1529 -घाघरा का युद्ध -इसमें बाबर ने महमूद लोदी के नेतृत्व में अफगानों को हराया |

1529 – Battle of Ghaghara – Babur defeated the Afghans under the leadership of Mahmud Lodi.

1539 – चौसा का युद्ध – इसमें शेरशाह सूरी ने हुमायु को हराया | HISTORY GK

1539 – Battle of Chausa – In this Sher Shah Suri defeated Humayu.

1540 – कन्नौज (बिलग्राम का युद्ध) : इसमें फिर से शेरशाह सूरी ने हुमायूँ को हराया व भारत छोड़ने पर मजबूरकिया |

1540 – Kannauj (Battle of Bilgram): In this again Sher Shah Suri defeated Humayun and forced him to leave India.

1556 – पानीपत का द्वितीय युद्ध :अकबर और हेमू के बीच | HISTORY GK

1556 – Second Battle of Panipat: Between Akbar and Hemu.

1565 – तालीकोटा का युद्ध : इस युद्ध से विजयनगर साम्राज्य का अंत हो गया क्यूंकि बीजापुर,बीदर,अहमदनगर व गोलकुंडा की संगठित सेना ने लड़ी थी |

1565 – Battle of Talikota: This war brought an end to the Vijayanagara Empire as the organized forces of Bijapur, Bidar, Ahmednagar and Golconda fought.

1576– हल्दी घाटी का युद्ध : अकबर और राणा प्रताप के बीच, इसमें राणा प्रताप की हार हुई |

1576 – Battle of Haldi Valley: Between Akbar and Rana Pratap, Rana Pratap lost it.

General Knowledge Question Answer

1858 – प्लासी का युद्ध : अंग्रेजो और सिराजुद्दौला के बीच, जिसमे अंग्रेजो की विजय हुई और भारत में अंग्रेजीशासन की नीव पड़ी |

1858 – Battle of Plassey: Between the British and Siraj-ud-Daula, in which the British won and the foundation of British rule in India.

1760 – वांडीवाश का युद्ध : अंग्रेजो और फ्रांसीसियो के बीच, जिसमे फ्रांसीसियो की हार हुई | HISTORY GK

1760 – War of the Vandiwash: between the British and the French, in which the French were defeated.

1761-पानीपत का तृतीय युद्ध :अहमदशाह अब्दाली और मराठो के बीच | जिसमे फ्रांसीसियों की हार हुई |

1761- Third Battle of Panipat: Between Ahmad Shah Abdali and Marathas. In which the French were defeated.

1764-बक्सर का युद्ध : अंग्रेजो और शुजाउद्दौला, मीर कासिम एवं शाह आलम द्वितीय की संयुक्त सेना के बीच| अंग्रेजो की विजय हुई | अंग्रेजो को भारत वर्ष में सर्वोच्च शक्ति माना जाने लगा |

1764- Battle of Buxar: Between the British and the combined forces of Shuja-ud-daulah, Mir Qasim and Shah Alam II. The British won. The British came to be considered the supreme power in the year of India.

1767-69 प्रथम मैसूर युद्ध : हैदर अली और अंग्रेजो के बीच, जिसमे अंग्रेजो की हार हुई | HISTORY GK1767-69 First Mysore War: Between Hyder Ali and the British, in which the British were defeated.

1780-84 – द्वितीय मैसूर युद्ध : हैदर अली और अंग्रेजो के बीच, जो अनिर्णित छूटा |

1780-84 – Second Mysore War: Between Hyder Ali and the British, which left undetermined.
1790– तृतीय आंग्ल मैसूर युद्ध : टीपू सुल्तान और अंग्रेजो के बीच लड़ाई संधि के द्वारा समाप्त हुई |

1790 – Third Anglo Mysore War: The battle between Tipu Sultan and the British ended by a treaty.

1767 – चतुर्थ आंग्ल मैसूर युद्ध : टीपू सुल्तान और अंग्रेजो के बीच , टीपू की हार हुई और मैसूर शक्ति का पतनहुआ |1767 Fourth Anglo Mysore War: Between Tipu Sultan and the British, Tipu was defeated and the Mysorean power fell.

1849– चिलियान वाला युद्ध : ईस्ट इंडिया कंपनी और सिखों के बीच हुआ था जिसमे सिखों की हार हुई |

1849- Chilian war: There was a fight between the East India Company and the Sikhs, in which the Sikhs were defeated.

अकबर के चित्तौड़ पर आक्रमण के समय किसके नेतृत्व में हजारों राजपूतों ने मुगल सेना का मुकाबला किया?

Ans. वीर जयमल और पत्ता ने

At the time of Akbar’s invasion of Chittor, under whose leadership did thousands of Rajputs confront the Mughal army?
Ans. Veer Jaimal and Patta

1972– भारत चीन सीमा युद्ध : चीनी सेना द्वारा भारत के सीमा क्षेत्रो पर आक्रमण | कुछ दिन तक युद्ध होने केबाद एकपक्षीय युद्ध विराम की घोषणा |

1972 – India-China Border War: Chinese army invades India’s border areas. Declaration of unilateral ceasefire after a few days of war.

भारत को अपनी सीमा के कुछ हिस्सों को छोड़ना पड़ा |

India had to leave parts of its border

1965– भारत पाक युद्ध : भारत और पाकिदेश स्तान के बीच युद्ध जिसमे पाकिस्तान की हार हुई | फलस्वरूपबांग्लादेश एक स्वतन्त्र बना |

1965- Indo-Pak war: The war between India and Pakistan in which Pakistan was defeated. As a result, Bangladesh became an independent country.

1999कारगिल युद्ध : जम्मू एवं कश्मीर के द्रास और कारगिल क्षेत्रो में पाकिस्तानी घुसपैठियों को लेकर हुएयुद्ध में पुनः पाकिस्तान को हार का सामना करना पड़ा और भारतीयों को जीत मिली

|1999-Kargil War: Pakistan faced defeat and Indians won in the war of Pakistani intruders in Dras and Kargil regions of Jammu and Kashmir.

राजपूत वंश के दौरान सामाजिक और सांस्कृतिक विकास

Social and cultural development during Rajput dynasty

राजपूत आक्रामक और बहादुर लड़ाके थे, जिसे वे अपने धर्म के रूप मे मानते थे। उन्होने गुणों और आदर्शो को महत्व दिया जो बहुत उच्च मूल सिद्धान्त थे।

The Rajputs were aggressive and brave fighters, whom they believed to be their religion. He gave importance to qualities and ideals which were very high basic principles.

वे बड़े दिल वाले और उदार थे, वे अपने मूल और वंश पर गर्व अनुभव करते जो उनके लिए सर्वोच्च था। वे बहादुर, अहंकारी और बहुत ही ईमानदार कुल के थे जिन्होने शरणार्थियों और अपने दुश्मनों को पनाह भी दी थी।

He was big-hearted and generous, proud of his origin and lineage, which was supreme for him. He was a brave, arrogant and very honest clan who also sheltered refugees and his enemies.लोगो के सामाजिक और सामान्य शर्ते:

· युद्ध विजय अभियान और जीत राजपूत समाज और संस्कृति की सबसे बड़ी विशेषता थी।

Social and general conditions of the people: War victory campaign and victory was the biggest feature of Rajput society and culture.

· समाज बुरी तरह परेशान था क्यूंकि लोगो के रहन सहन के स्तर मे काफी असमानता थी।

The society was badly disturbed as there was a lot of disparity in the standard of living of the people.

वे जाति और धर्म प्रणालियों मे विश्वास रखते थे।

He believed in caste and religion systems.

· मंत्री, अधिकारी, सामंत प्रमुख उच्च वर्ग के थे, इसलिए उन्होने धन जमा करने के विशेषाधिकार का लाभ उठाया और वे विलासिता और वैभव मे जीने के आदी थे ।

Ministers, officers, feudal chiefs belonged to the upper class, so they took advantage of the privilege of accumulating wealth and were accustomed to living in luxury and splendor.

· वे कीमती कपड़ो, आभूषणों और सोने व चांदी के जेवरों मे लिप्त थे। वे कई मंजिलों वाले घर जैसे महलों मे रहा करते थे।

They were involved in precious clothes, jewelery and gold and silver jewelry. They used to live in palaces like houses with many floors.

· राजपूतों ने अपना गौरव अपने हरम और उनके अधीन कार्य करने वाले नौकरो की संख्या मे दिखाया।

The Rajputs showed their pride in their harem and the number of servants working under them.

· दूसरी तरफ किसान भू-राजस्व और अन्य करों के बोझ तले दब रहे थे जो सामंती मालिको के द्वरा निर्दयतापूर्वक वसूले जाते थे या उनसे बेगार मजदूरी करवाते थे।

On the other hand, the peasants were burdened with land revenue and other taxes which were mercilessly collected by the feudal owners or they were forced into forced labor.

HISTORY GK

जाति प्रथा: caste system:

· निचली जातियों को सीमान्ती मालिकों की दुश्मनी का सामना करना पड़ा जो उन्हे हेय दृष्टि से देखते थे।अधिकांश काम करने वाले जैसे बुनकर, मछुवारे, नाई इत्यादि साथ ही आदिवासियों के साथ उनके मालिक बहुत ही निर्दयी बर्ताव करते थे।

The lower castes had to face the enmity of marginal owners who looked down upon them. Most of the workers like weavers, fishermen, barbers etc. as well as the tribals were treated very ruthlessly by their owners.

· नई जाति के रूप मे ‘राजपूत’ छवि निर्माण मे अत्यंत लिप्त थे और सबसे अहंकारी थे जिसने जाति प्रथा को और अधिक मजबूत बना दिया था।

The ‘Rajputs’ as a new caste were extremely involved in image building and were most arrogant which made the caste system more strong.

महिलाओं की स्थिति:Status of Women:

यद्यपि महिलाओं का सम्मान अत्यधिक स्पष्ट था और जहा तक राजपूतो के गौरव की बात थी तो वो अभी भी एक अप्रामाणिक और विकलांग समाज मे रहते थे। निम्न वर्ग की राजपूत महिलाओं को वेदों के अध्ययन का अधिकार नहीं था। हालांकि, उच्च घरानो के परिवारों ने उच्च शिक्षा प्राप्त की। महिलाओं के लिए कानून बहुत कटीले थे।

Although the honor of women was highly evident and as far as the pride of Rajputs was concerned, they still lived in an unnatural and handicapped society. Rajput women of lower class did not have the right to study Vedas. However, families of higher families received higher education. Laws for women were very harsh.

· उन्हे अपने पुरुषो और समाज के अनुसार उच्च आदर्शो का पालन करना पड़ता था। उन्हे अपने मृतक पतियों के शव के साथ खुशी से अपने आप को बलिदान करना पड़ता था।

He had to follow high ideals according to his men and society. They had to sacrifice themselves happily with the corpse of their deceased husbands.
· यद्यपि कोई पर्दा प्रथा नहीं थी। और ‘स्वयंवर’ जैसी शादियों का प्रचलन कई शाही परिवारों मे था, अभी भी समाज मे भ्रूण हत्या और बाल विवाह जैसी कुप्रथाएं देखने को मिलती थी।

Although there was no curtain practice. And weddings like ‘Swayamvar’ were prevalent in many royal families, still there were misdeeds like feticide and child marriage in the society.

शिक्षा और विज्ञान Education and Science:

राजपूत शासन काल मे केवल ब्राह्मणो और उच्च जाति के कुछ वर्गो को शिक्षित होने / शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार प्राप्त था।

During the Rajput rule, only Brahmins and some sections of the upper caste had the right to be educated / receive education

· उच्च शिक्षा के लिए प्रसिद्ध केंद्र बिहार के नालंदा मे था और कुछ अन्य महत्वपूर्ण केंद्र विक्रमशिला और उदन्दापुर मे थे। इस समय केवल कुछ ही शिक्षा के शैव केंद्र कश्मीर मे विकसित हुये।

The famous center for higher education was at Nalanda in Bihar and some other important centers were at Vikramshila and Udandapur. At this time, only a few Shaiva centers of education developed in Kashmir.

· धर्म और दर्शन अध्ययन चर्चा के लिए लोकप्रिय विषय थे।

Religion and philosophy studies were popular topics for discussion.

· इस समय तक भी विज्ञान के ज्ञान का विकास धीमा / शिथिल था, समाज तेजी से कठोर बन गया था, सोच परंपरागत दर्शन तक ही सीमित थी, इस समय के दौरान भी विज्ञान को विकसित करने का उचित गुंजाइश या अवसर नही मिला।

Even till this time, the development of science knowledge was slow / lax, society had become increasingly rigid, thinking was limited to traditional philosophy, even during this time, there was no proper scope or opportunity to develop science.

वास्तु कला:Architecture:

· राजपूत काफी महान निर्माणकर्ता थे जिनहोने अपना उदार धन और शौर्य दिखाने के लिए किलों, महलो और मंदिरो के निर्माण मे अत्यधिक धन खर्च किया। इस अवधि मे मंदिर निर्माण का कार्य अपने चरम पर पहुँच गया था।

The Rajputs were great builders, who spent a lot of money in building forts, palaces and temples to show their generous wealth and valor. During this period, the construction work of the temple reached its peak.

· कुछ महत्वपूर्ण मंदिरों मे पुरी का लिंगराज मंदिर, जगन्नाथ मंदिर और कोणार्क मे सूर्य मंदिर है।

Some of the important temples are the Lingaraja Temple of Puri, the Jagannath Temple and the Sun Temple at Konark.

· खजुराहो, पुरी और माउंट आबू राजपूतों द्वारा बनवाए गए सबसे प्रसिद्ध मंदिर माने जाते है।

Khajuraho, Puri and Mount Abu are considered the most famous temples built by the Rajputs.

· राजपूत सिचाई के लिए नहरों, बाधों, और जलाशयो के निर्माण के लिए भी जाने जाते थे जो अभी भी अपने परिशुद्धता और उच्च गुणवत्ता के लिए माने जाते है।

The Rajputs were also known for the construction of canals, dams, and reservoirs for irrigation, which are still considered for their precision and high quality.

· कई शहरो जैसे जयपुर, जोधपुर, जैसलमर, बीकानेर, के नींव की स्थापना राजपूतों के द्वारा की गई थी, इन शह रों को सुंदर महलों और किलों के द्वारा सजाया गया था जो आज विरासत के शहर के नाम से जाना जाता है।

The foundations of several cities such as Jaipur, Jodhpur, Jaisalmer, Bikaner, were established by Rajputs, these cities were decorated with beautiful palaces and forts which are today known as the city of heritage.

· अट्ठारहवीं शताब्दी मे सवाई जयसिंह के द्वारा बनवाए गए चित्तौड़ के किले मे विजय स्तम्भ, उदयपुर का लेक पैलेस, हवा महल और खगोलीय वेधशाला राजपूत वास्तुकला के कुछ आश्चर्यजनक उदाहरण है।

The Chittor fort built by Sawai Jai Singh in the eighteenth century Vijay Stambh, Lake Palace of Udaipur, Hawa Mahal and Astronomical Observatory are some amazing examples of Rajput architecture.

HISTORY GK

चित्रकारी/चित्रकला Painting / painting

· राजपूतो के कलाकृतियों को दो विद्यालयों के क्रम मे रखा जा सकता है- चित्रकला के राजस्थानी और पहाड़ी विद्यालय।

The artifacts of Rajputs can be placed in the order of two schools – Rajasthani and Pahari school of painting.

· कलाकृतियों के विषय भक्ति धर्म से अत्यधिक प्रभावित थे और अधिकांश चित्र रामायण, महाभारत और राधा और कृष्ण के अलग-अलग स्वभावों को चित्रित करता था।
· दोनों विद्यालयों की प्रणाली समान

The subjects of the artifacts were heavily influenced by Bhakti religion and most of the paintings depicted the different nature of Ramayana, Mahabharata and Radha and Krishna.
· Both schools have same system

इन्हे भी पढ़े 

मौलिक अधिकार

स्थानीय स्वशासन 

कब क्या खोज हुआ

विश्व-की-नदियां-gk

अमेरिका-की-क्रांति-american-revolution-gk

Leave a Comment

error: Content is protected !!